જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે! વહાલમાં…-વિવેક ટેલર

જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે! વહાલમાં…

મારી આંખોની પાર નથી એક્કે કવિતા, મારી આંખોમાં આંખ તું પરોવ મા,
જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે ! વહાલમાં…

આંખોમાં આંખ અને હાથોમાં હાથ હવે લાગે છે થોડું આઉટડેટેડ,
વ્હૉટ્સએપ ને ફેસબુક છે લેટેસ્ટ ફેશન, બેબી ! એનાથી રહીયે કનેક્ટેડ.
વાઇબર કે સ્કાયપી પર મેસેજ કરીને નેક્સ્ટ મિટિંગ રાખીશું આજકાલમાં.
જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે ! વહાલમાં…

ડેઇલી મૉર્નિંગમાં હું સ્માઇલી મોકલાવીશ, તું બદલામાં કિસ મોકલાવજે,
‘લાસ્ટ સીન’ સ્ટેટસમાં અંચઈ નહીં કરવાની, એટલી ઑનેસ્ટી તું રાખજે.
તારી એક્કેક ટ્વિટ ફોલૉ કરું છું હુંય, એક-એક પિરિયડના દરમિયાનમાં.
જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે ! વહાલમાં…

કાગળ-પેન લઈ હું લખતો નથી કે આ છે કમ્પ્યૂટર-મોબાઇલનો યુગ,
ફૂલ અને ઝાકળ ને સાગર-શશી ને આ કવિતા-ફવિતા, માય ફૂટ !
સાથે રહી લઈશ પણ એક જ કન્ડિશન- તું તારા, હું મારા મોબાઇલમાં.
જરા ડિસ્ટન્સ તું રાખ, પ્રિયે ! વહાલમાં…

( વિવેક ટેલર )

आहुति-उमा त्रिलोक

नहीं किसी ने खुशी में थाली पीटी
गली में नहीं बांटा गुड़
जब दाई ने कहा
” लक्ष्मी अाई है”

किसी ने नहीं दुलारा पुचकारा
मै होती रही बड़ी,
यूं ही,
रोती बिलखती किलकारती

शब्द सुना जो पहली बार
दादी ने कहा, ” कर्म जली ”
नहीं समझा जिसे,
लेकिन
थाली छीन ली जब यह कहकर,
” मत खा इतना, जल्दी बड़ी हो जाएगी ”
तो, मैं रो दी

मेंने सुना
बस चीखना मां का
” उठ, झाड़ू बुहारी सीख
चूल्हा चौका संभाल, तुझे जाना है अगले घर ”

छह साल की थी,
जब
मुन्ने को पकड़ा देती,
कहती,
” बर्तन मल कर रखना, कपड़े
सूखा देना
आती हूं मैं काम से घंटे भर में ”

न देखा बचपन मेंने
न देखी जवानी,
लेकिन
फिर भी
बड़ी हो गई

एक दिन खेत में पकड़ ली बांह
पिछवाड़े के कल्लू ने
खूब हुअा हंगामा
बहुत मचा शोर
गाव में
मारा पीटा दुत्कारा
फिर मैं
ब्याह दी
जल्दी में

सजा मिली
मुझे उस गुनाह की
जो मेंने किया ही नहीं

अब
हर बार सास बोल देती
मेरे उसको

” पेट में लड़की हुई तो गिरा देना
हमें तो बस पोता चाहिए ”

हुआ कई बार ऐसे ही

फिर तू अा गई
डाक्टरनी की भूल से

सुन
अगर तेरे जीवन में कुछ ऐसा हो
जो तुम्हे ना भाए
तो
तुम करना विरोध
दहाड़ना, दिखाना प्रतिरोध
जूझना
मत मानना

तुम बदल देना
रुख समय की धार का
सुने ना कोई
गर तेरी बात
तुम चीखना ज़ोर से
जो टकराए जाकर क्षितिज से
चीर दे जो सीना गगन का
तुम
लड़ना,झगड़ना
और
घसीट लाना समय को
परिवर्तन की ओर
चाहे खो जाए
तेरा सर्वस्व ही
क्यों कि
परिवर्तन मांगता है
आहुति

हां
आहुति

( उमा त्रिलोक )

मैं स्त्री हूं-उमा त्रिलोक

दहेज में मिला है मुझे
एक बड़ा संदूक हिदायतों का
आसमानी साड़ी में लिपटा हुआ संतोष
सतरंगी ओढ़नी में बंधी सहनशीलता
गांठ में बांध दिया था मां ने
आशीष,
“अपने घर बसना और….
विदा होना वहीं से ”

फिर चलते चलते रोक कर कहा था
“सुनो,
किसी महत्वाकांक्षा को मत पालना
जो मिले स्वीकारना
जो ना मिले
उसे अपनी नियति मान लेना
बस चुप रहना
सेवा और बलिदान को ही धर्म जानना ”
और
कहा था

“तेरी श्रृंगार पिटारी में
सुर्खी की जगह
लाल कपड़े में बांध कर मैंने
रख दिया है
” मीठा बोल ”
बस उसे ही श्रृंगार मानना
और
चुप रहना

मां ने इतना कुछ दिया
मगर भूल गई देना मुझे
अन्याय से लडने का मंत्र
और
मैं भी पूछना भूल गई
कि
यदि सीता की तरह, वह मेरा
परित्याग कर दे
तो भी क्या मैं चुप रहूं
और यदि द्रौपदी की तरह
बेइज्जत की जाऊं
क्या, तो भी

क्या,
दे दूं उसे हक
कि
वह मुझे उपभोक्ता वस्तु समझे
लतादे मारे, प्रताड़े

क्या
उसके छल कपट को अनदेखा कर दूं
समझौता कर लूं
उस की व्यभिचारिता से
पायदान की तरह पड़ी रहूं
सहती सब कुछ
फिर भी ना बोलूं
अन्याय के आगे
झुक जायूं

मां
अगर ऐसा करूंगी तो फिर किस
स्वाभिमान से
अपने बच्चों को
बुरे भले की पहचान करवाऊंगी
किस मुंह से उन्हें
यातना और अन्याय के आगे
न झुकने का पाठ पढ़ाऊंगी

मां
“मुझे अपनी अस्मिता की
रक्षा करनी है”

“सदियों से
स्त्री का छीना गया है हक
कभी उसके होने का हक
कभी उसके जीने का हक
बस अब और नहीं”

अब तो उसने
विवशता के बंधनों से जूझते जूझते
गाड़ दिए हैं
अनेकों झंडे
लहरा दिए हैं
सफलताओं के कई परचम

मां
अब तो कहो मुझ से
कि कोशिश करूं मैं
सृष्टि का यह विधान

क्यों कि नहीं जीना है मुझे
इस हारी सोच की व्यथा के साथ
“मुझे जीना है
हंस ध्वनि सा
गुनगुनाता जीवन
गीत सा लहराता जीवन”

मैं स्त्री हूं

 

( उमा त्रिलोक )

लॉक डॉउन में-उमा त्रिलोक

अब रोज सुबह पांच बजे
नहीं होती भागम भाग
बच्चे मीठी नीद सोते है
उन्हें जगा कर अप्राधिन्न नहीं बनती

खिड़की से देख लेती हूं
रात को धीरे धीरे भोर बनते
और सूरज को विलंबित गति से उगते
चिड़ियों के संग संग गुनगुना भी लेती हूं

वैसे तो रोज़
ऐसा वैसा ही जल्दी में पका कर
ठूंस देती थी
उनके टिफिन बक्सों में
लेकिन अब
सोच समझ कर
पकवान बनाती हूं
उनकी पसंद के
जगाती हूं फिर प्यार से
और रिझा रिझा कर खिलाती हूं
हंस बोल भी लेती हूं
उनके संग
उनकी चुटकेबाजियों पर

अब नहीं पूछती उस से
पहले की तरह

” कैसे हो, दिन कैसे गया”
और रख दिया करती थी
उसके आगे , गरम चाय का प्याला
और बिना उसका जवाब सुने ही
भागते दौड़ते जुट जाती थी
रात का खाना बनाने में
बच्चों का होमवर्क करवाने में

लेकिन अब

दिन में कई कई बार
लेकर हाथों में उसका हाथ
पूछती हूं

“कैसे हो….
कहती हूं
” चिंता मत करना
सब ठीक हो जाएगा
कुदरत जानती है
कैसे रखना है उसने हमारा ख्याल”

जगाती हूं
संभालती हूं , संजोती हूं
एक विश्वास
कि सब ठीक हो जाएगा

इस लॉक डॉउन के बाद
मालूम नहीं भविष्य का क्या होगा
लेकिन लगता है
कुछ भी पहला सा नहीं रहेगा
सब तौर तरीके बदल जाएंगे
नए केद्र बिंदु उभरेंगे
जैसे हवा, नदियां, आसमान
बदले बदले से दिखाई देते हैं
वैसे ही
जीवन, नए जीवन की सुध लेगा

अब सब काम लौंग डिस्टेंस
ओनलाइन ही होगा
अगर रहेंगे
तो,
वो नहीं रहेंगे
जो चूहों की दौड़ में भाग रहे थे
यह जाने बिना
कि कहां जा रहें हैं

( उमा त्रिलोक )

સાંધણ-પન્ના નાયક

નાની હતી
ત્યારે રમતાં રમતાં
ફ્રોક ફાટી જાય
તો દોડીને
બા પાસે લઇ જાઉં:
‘જરા સાંધી આપોને.’
‘તું ક્યારે શીખીશ સાંધતાં? લે દોરો પરોવી આપ.’
હું દોરો પરોવી આપતી.
બા ફટાફટ ફ્રોક સાંધી આપતાં.

મારી ફોક પહેરવાની ઉંમરને વરસોનાં વરસો વહી ગયાં
અને બા પણ નથી રહ્યાં.
હવે
ઘણું બધું ફાટી ગયું છે,
ઉતરડાઈ ગયું છે.
સોય-દોરો સામે છે.
ચશ્માં પહેરેલાં છે
પણ દોરો પરોવાતો નથી.

કોણ જાણે ક્યારે
સાંધી શકાશે
આ બધું?

( પન્ના નાયક )

प्रेम को-नरेश गुर्जर

१)
प्रेम को
उसी तरह आना चाहिए
जैसे नींद आती है
नवजात बच्चे को।
२)
प्रेम को
उतनी ही देर ठहरना चाहिए
जितनी देर ठहरती है
तितली फूल पर।
३)
प्रेम को
उसी तरह लौटना चाहिए
जैसे लौटती है आवाज
कहीं से टकरा कर।
( नरेश गुर्जर ‘नील’ )

ग्रीष्म की तपती धरा-डॉ. सुमन शर्मा

ग्रीष्म की तपती धरा पर,
गगन जब अगन बरसाये,
गरम हवाओं के झोंकों से,
सारा आलम झुलसा जाये,
तब…
चटक लाल खिलें गुलमोहर,
देखें गगन ओर,मुसकायें।
संग धरा वह करें तपस्या,
अवनी को ढाढ़स बँधवायें।
खिलें अमलतास पूरी बहार से,
खिलकर वंदनवार सजायें।
सूरजमुखी अपने रंगों से
देखें,हँसे और हरषायें।
तब..
देख तपस्या अवनी की
अश्रु भर आयेंगे गगन नयन,
अमीरस बरसेगा, तृप्त धरा,
मिट्टी की सौंधी महक से
खिल उठेंगे मन आँगन,
हे मानव, तुम हर पीड़ा में
अन्तर्मन से ज़िंदा रहना,
दिन बदलेंगे,हल निकलेंगे,
धरा,गगन,प्रकृति सिखाये।


( डॉ. सुमन शर्मा )

ગરમાળો કોળ્યો મારે આંગણે-તુષાર શુક્લ

પુરુષ :
ગરમાળો કોળ્યો મારે આંગણે
ઓ ગોરી મોરી
તારે આંગણ ના ખીલ્યો ગુલમ્હોર
એવું કેમ ?
કેમ, ખીલીને થાય નહીં પ્રેમ ?

લૂંબઝૂંબ ગરમાળો ડોલે છે વાયરે
છોને હો બળબળતી લૂ
હું યે તે ઝૂલું એ જોવાને મેડીએથી
છાનું ઝૂકી રહી છે તું

તું યે ગુલમ્હોર જેવી ગોરી શરમાળ
મોરી
ખીલતાં લાગે છે, તને વાર
એની જેમ !
કેમ, ખીલીને થાય નહીં પ્રેમ ?

સ્ત્રી :
ગુલમ્હોરી ફૂલ જેવો મારો સ્વભાવ, સજન
ખૂલવામાં લાગે છે વાર
એક વાર ખૂલું પછી ખીલું હું વ્હાલમા
ખીલી રહું સાંજ ને સવાર

ગરમાળા જેવો તું , હું છું ગુલમ્હોર
પછી
બેઉ સંગાથે સજન,શોભીએ
ન કેમ ?
ચાલ, ખીલીને કરીએ પિયુ,પ્રેમ !

( તુષાર શુક્લ )

જાદુ શું કીધો ગરમાળે-યામિની વ્યાસ

જાદુ શું કીધો ગરમાળે !
ટહુકા બેઠા ડાળે ડાળે.

 

ક્ષણ ક્ષણનું આ વસ્ત્ર સમયનું
વણતું કોઈ કબીરની સાળે.

 

વીત્યા વર્ષો જાણે ઝૂલે
કરોળિયાના જાળે જાળે.

 

પાંદડીઓ ઝાકળ પીવાને
સૂરજના કિરણોને ગાળે.

 

આવ ગઝલ તારું સ્વાગત છે
કોઈ તને મળવાનું ટાળે ?

 

( યામિની વ્યાસ )

ગુલમ્હોર શોધનારી-શ્યામ સાધુ

ગુલમ્હોર શોધનારી ઉદાસીને શી ખબર,
હું પાનખરના નામથી પણ થરથર્યા કરું.

 

આજે તો પેલા મોરના ટહુકાય ક્યાં રહ્યા,
પીંછાના જેવો હું જ ફક્ત ફરફર્યા કરું.

 

બહુ બહુ તો એક પળને લીલીછમ બનાવશે,
હું ક્યાં સુધી પતંગિયાને કરગર્યા કરું ?

 

બોલો હે અંધકાર ! અજંપાની રાતના,
કોને સ્મરણ હું સૂર્ય બની તરવર્યા કરું ?

 

મારા વિષાદનાં ગુલાબો મ્હેકતા રહો,
હું તો આ બારમાસી ફૂલે ઝરમર્યા કરું.

 

( શ્યામ સાધુ )