मैं

मैं?

आम की झुकी हुई डाल पर

झूलने वाला

वह अधफूटा घडा

जिस में कि कोई खूबसूरती नहीं है

पर ईतना जरुर है

कि पानी से भरा हूं

अत: मेरे पास आने वाला

कोई भी थका-माँदा पंछी

कभी भी प्यासा नहीं लौट सकता I

( मुनि रुपचन्द्र )

One thought on “मैं

Leave a Reply to Pancham Shukla Cancel reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.