इस जहाँ में – राजेश रेड्डी

.

इस जहाँ में यूँ तो सब आसान है

मेरी मुश्किल बस मेरा ईमान है

 .

जाने कब इस जिस्म से छूटूँगा मैं

जाने किस तोते में मेरी जान है

 .

कर रहा है इक सदी का इंतज़ाम

चार दिन का जो यहाँ मेहमान है

 .

क्या अजब है मौत है राहत का नाम

और ग़मों का ज़िन्दगी उनवान है

.

ग़मज़दा तो सब हैं गौतम की तरह

सबकी क़िस्मत में कहाँ निर्वान है

 .

( राजेश रेड्डी )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *