अच्छी लगी – हनीफ साहिल

रास्तों में गुमरही अच्छी लगी

ये तलाशे-बेखुदी अच्छी लगी

 .

मैंने देखा है उसे बस एक बार

एक लडकी अजनबी अच्छी लगी

 .

सारा दिन तो शोर रहता है यहां

शाम होते ही गली अच्छी लगी

 .

गम से गेहरा कोई भी दुश्मन नहीं

गम से अपनी दोस्ती अच्छी लगी

 .

गमकदे में तीरगी जब बढ गई

खूने-दिलकी रौशनी अच्छी लगी

 .

एक बस तेरी कमी खलती रही

वरना हमको जिंदगी अच्छी लगी

 .

शायरी से क्या मिला तुमको हनीफ

हां मगर ये सरखुशी अच्छी लगी

 .

( हनीफ साहिल )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.