तोड देती है-खलील धनतेजवी

तोड देती है मशक्कत, काम के अंजाम तक,
बोल उठती है बदन की हड्डीयां भी शाम तक !

ऐ हवा, मेरे चिरागों से अदब से बात कर,
अब भी शरमिन्दा है मुजसे गर्दिशे-ऐयाम तक.

चल बता साकी वो तेरे मयकदे का क्या हुआ ?
क्यूं नजर आते नहीं हैं टूटेफूटे जाम तक !

गूंज उठती हैं फिझाऐं उन के लब हिलने पे भी,
और मेरा बे असर साबित हुआ कोहराम तक !

हम खलील अब तक सलामत हैं, गनीमत है यही,
बात छोटी सी चली जाती है कत्ले-आम तक !

( खलील धनतेजवी )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.