Tag Archives: ramlala

रामलला-मनमीत सोनी

.

आँख सरयू है आज रामलला।
तू ही हर सू है आज रामलला।
.
दिन किसी फूल-सा महक उट्ठा
रात ख़ुशबू है आज रामलला।
.
हम भी सूरज हैं तेरी रहमत से
कौन जुगनू है आज रामलला?
.
बाद आबाद कितनी सदियों के
तेरा पहलू है आज रामलला।
.
वो तिहत्तर बरस का बूढा शख़्स
तेरा बाज़ू है आज रामलला।
.
केसरी रंग का उगा सूरज
तेरा जादू है आज रामलला।
.
उसको जीने का मिल गया मक़सद
जो भी हिन्दू है आज रामलला।
.
( मनमीत सोनी )