Archives

તો નહીં પડે ?-ભાવિન ગોપાણી

ખુશીની વાતમાં દુ:ખની અસર તો નહીં પડે ?

પડે વરસાદ ત્યારે કોઈ ઘર તો નહીં પડે ?

.

હતો કેવો તબક્કો એકતરફી પ્રેમનો,

સતત ચિંતા હતી, એને ખબર તો નહીં પડે ?

.

હલાવો વૃક્ષની ડાળી કે ફેંકો પથ્થરો,

મરણનું ફળ કદી પાક્યાં વગર તો નહીં પડે.

.

તને જોઈ ઉદાસી આંખમાં મૂકી દીધી,

હતો વિશ્વાસ ત્યાં તારી નજર તો નહીં પડે ?

.

બને નાનો કે મોટો પેગ કરજે માફ મિત્ર,

અમારાથી હવે કંઈ માપસર તો નહીં પડે.

.

( ભાવિન ગોપાણી )

જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે!-લલિત ત્રિવેદી

સબરબત્તીની ઝીણી સેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે!

ખડાઉમાંથી ઝરતી ખેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

મુખોમુખ કરવાને દરસન નયન થૈ ગ્યાં છે તિરથાટન,

ઝુરાપા, થાજે મારી ભેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

ઉકેલીને ફલક ફંદા બની જાશું અમે બંદા,

કે ઝેરીલું કરીને જેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

ગઝલનો ભેષ લૈને હું નિરખ્ખર થાવા નીકળ્યો છું,

હે શ્યાહી! તારી શ્યામળ મ્હેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

હો ગરવી ટૂક કે મણકા થયેલા ટેરવાની ટોચ,

હે મેરુ! આભઊંડો મેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

લલિતી ભેષ, નીરખી લે, છે પાણો પણ ત્યાંય દેરીમય,

કે ટગલી ટૂકની નાઘેર, જ્યાં લઈ જાય, જાવું છે.

.

( લલિત ત્રિવેદી )

તો તમે રાજી ?-રિન્કુ રાઠોડ “શર્વરી”

નામ, રસ્તો ને નગર છોડી દઈએ, તો તમે રાજી ?

હોય ઈચ્છા તોય પાછા ના વળીએ, તો તમે રાજી ?

.

આપણા કિસ્સા વિશે કંઈ જાણવા ચાહે અગર કોઈ,

રણ, હરણ ને ઝાંઝવાં-એવું કહીએ, તો તમે રાજી ?

.

દિલ તમે તોડી શકો નૈં, એવું માને છે અહીંયાં સહુ,

જો અમે એ વાતમાં ખોટા પડીએ, તો તમે રાજી ?

.

મૃત્યુથી મોટી સજા આપી તમે એવું કહેવાશે,

તો હવેથી એકલાં જીવ્યાં કરીએ, તો તમે રાજી ?

.

હક જતાવી માંગ્યું પહેલીવાર કૈં, એમાં અમે રાજી,

હા, હવે રાજી થવું છોડી દઈએ, તો તમે રાજી ?

.

( રિન્કુ રાઠોડ “શર્વરી” )

આ કવિતા એમના માટે-બ્રિંદા ઠક્કર

જે મને વખોડયા કરે છે,
વાતે વાતે સંતાપ્યા કરે છે,
જોઈતું નહિ આપીને –
સતત રઝળાવ્યા કરે છે..

આ કવિતા એમના માટે !

જે સતત આરોપો લગાવ્યા કરે છે,
સાંકળપણું જતાવ્યા કરે છે,
કશું જ નહીં બોલીને –
સતત સંભળાવ્યા કરે છે..

આ કવિતા એમના માટે !

જે દૂરથી સાદ પાડ્યા કરે છે,
રસ્તાઓ સંતાડયા કરે છે,
બધું જ બધું આપીને –
સતત કહેવડાવ્યા કરે છે..

આ કવિતા એમના માટે !

ને લખું નહિ તો બીજું કરું શું??

શબ્દો આપીને જે શબ્દાર્થ છીનવ્યા કરે છે…

આ કવિતા એમના જ માટે !!!

( બ્રિંદા ઠક્કર )

તમોને એમ કે-વિકી ત્રિવેદી

તમોને એમ કે જે ચૂપ છે તેઓ ઠરેલાં છે,
હકીકતમાં ગળામાં એમના ડૂમા ભરેલા છે.
.
આ પાપીઓ સુખી કોઈ જુદી રીતે થયા છે દોસ્ત,
નહિતર હાય બે ત્રણ પાપ તો મેં પણ કરેલાં છે.
.
કાં તો નાદાન બાળક કાં અશિક્ષિત છે પ્રભુ મારો,
જે રીતે એણે મારા ભાગ્યમાં લીટા કરેલા છે.
.
બિચારો કૂતરાઓથી લડીને માંડ પહોંચ્યો મોર,
ને ઢેલે કીધું જાઓ આપનાં પીંછા ખરેલા છે.
.
હસું તો હોઠને દેખીને લાગે છે મને એવું,
કે જાણે ફૂલડાં કોઈ કબર પર પાથરેલાં છે.
.
વિના ટેકે હું પહોંચ્યો તો ઘણાને યાદ આવી ગ્યું,
આ સ્થાને આવવા માટે એ ક્યાં ક્યાં કરગરેલા છે?
.
હવે એ બિંદુ લાગે છે હતા પર્વત સમાં જે સુખ,
સુખો નાના થયા કે મુજ વિચારો વિસ્તરેલા છે?
.
( વિકી ત્રિવેદી )

उर्मिला-राजेश्वर वशिष्ठ

टिमटिमाते दियों से
जगमगा रही है अयोध्या
सरयू में हो रहा है दीप-दान
संगीत और नृत्य के सम्मोहन में हैं
सारे नगरवासी
हर तरफ जयघोष है —-
अयोध्या में लौट आए हैं राम!
अंधेरे में डूबा है उर्मिला का कक्ष
अंधेरा जो पिछले चौदह वर्षों से
रच बस गया है उसकी आत्मा में
जैसे मंदिर के गर्भ-गृह में
जमता चला जाता है सुरमई धुँआ
और धीमा होता जाता है प्रकाश!
वह किसी मनस्विनी-सी उदास
ताक रही हैं शून्य में
सोचते हुए — राम और सीता के साथ
अवश्य ही लौट आए होंगे लक्ष्मण
पर उनके लिए उर्मिला से अधिक महत्वपूर्ण है
अपने भ्रातृधर्म का अनुशीलन
उन्हें अब भी तो लगता होगा —-
हमारे समाज में स्त्रियाँ ही तो बनती हैं
धर्मध्वज की यात्रा में अवांछित रुकावट —
सोच कर सिसक उठती है उर्मिला
चुपके से काजल के साथ बह जाती है नींद
जो अब तक उसके साथ रह रही थी सहचरी-सी!
अतीत घूमता है किसी चलचित्र-सा
गाल से होकर टपकते आँसुओं में
बहने लगते हैं कितने ही बिम्ब!
************************
चिंतित हैं राजा जनक
रजस्वला हो गई हैं दोनों बेटियाँ
पर वे अब भी खेलती हैं बच्चों की तरह
पुरोहित से करते हैं विमर्श
उनके विवाह के लिए
पड़ौसी राजाओं की नज़र लगी है
परम सुंदरी सीता पर
अब सीता का विवाह करना ही होगा
खोजना होगा ऐसा वर
जो प्रत्यंचा तान दे शिव के धनुष की!
सोचती है उर्मिला—-
सच, परम सुंदरी हैं बहन सीता
पर क्या मुझमें कोई कमी है, ईश्वर?
काश, मैं भी पिता को मिली होती
किसी नदी, नाले या खेत खलिहान में
मेरे लिए भी आता
कोई शिव या किसी अन्य देवता का धनुष
मुझे भी चाहता कोई विशिष्ट धनुर्धर!
नहीं, पर यह कैसे होता,
मैं वीर्य-शुल्का जो नहीं थी
इसलिए मुझे भी
विदा कर दिया गया सीता के साथ
ताकि लक्ष्मण को मिल सके पत्नी
और मैं विवाह के बाद भी
सीता की सहचरी बनूँ
स्त्रियाँ स्नेह में भी बना दी जाती हैं दास
उस दिन मिथिला में
यही तय हुआ था उर्मिला के लिए!
*************************
न वाल्मीकि बताएंगे न तुलसी
अयोध्या के महल में कैसे रहती थी उर्मिला?
चार बहनों में
श्रेष्ठ और ज्येष्ठ थी सीता
भोर की मलयानिल में हम पहुँच जाते थे सीता मंदिर
देर तक होता था वेदोच्चार
यज्ञ-धूम्र से महक जाता था सारा महल
और हम चरण छूकर आशीर्वाद लेते थे ऋषियों से
सभी राजकुमार साथ साथ चलते थे अपनी पत्नियों के
पर मैं सदा अकेली ही क्यों रही?
लक्ष्मण सदा ही चले राम और सीता के पीछे
हे दैव, बोलो उन क्षणों में कौन था उर्मिला के साथ?
बोलो दैव, रात को जब कई बार
बुझ चुकी होती थी दिए की बाती
प्रतीक्षा में अकड़ने लगता था मेरा शरीर
तब थक कर,
पिता और भाई के चरण दबा कर
लौटते थे मेरे पति
मैं स्नेह से सुला देती थी उन्हें पुत्रवत
और रात भर जलती थी बिना तैल की बाती सी
क्या आपने यही नियति तय की थी उर्मिला के लिए?
******************
राम जा रहे थे वनवास पर
विशद व्याकुलता के क्षण थे
महल में मचा था हाहाकार
सीता का आग्रह था वह जाएगी राम के साथ
मुझे तो अंत तक यह भी मालूम नहीं था
कि लक्ष्मण भी वन जाएंगे उन के साथ
मैं जड़वत खड़ी थी महल के द्वार पर
और लक्ष्मण ने आकर कहा —
सुनो, तुम मेरी अनुपस्थिति में
रखोगी मेरी सभी माताओं का ध्यान
यदि उन्हें कष्ट हुआ
तो हम नरक के भागी होंगे!
और वह बिना मुझे सांत्वना का
एक भी शब्द कहे दौड़ गए राम के पीछे
दैव, ऐसा तो कोई
अपनी परिचारिका के साथ भी नहीं करता
मैं तो अग्नि की साक्षी में उनकी पत्नी बनी थी!
******************
ये चौदह वर्ष कैसे काटे हैं उर्मिला ने
पूछो किसी व्रती से
पूछो किसी ऐसी स्त्री से
जिसे दण्ड मिला हो सुहाग का
जो वचनबद्ध होकर जी रही हो
किसी काल्पनिक पुरुष के लिए
सतयुग में भी यही जीवन था एक स्त्री का!
********************
दीपपर्व है आज
और मेरे मन में गहन अंधकार है
सच कहूँ तो मुझे प्रतीक्षा नहीं है लक्ष्मण की
मुझे प्रतीक्षा नहीं है अपने धर्म परायण पति की
उनका आना, आना है किसी शेषनाग का
जिसके फन पर पूरी पृथ्वी स्थापित है
जो फुंकार सकता है
भस्म कर सकता है पूरा ब्रह्मांड
पर अपने शीश को
प्रेयसी के वक्ष पर नहीं टिका सकता!
उर्मिला, मैं तुमसे क्षमा चाहता हूँ
बिना उस अपराधबोध से मुक्त हुए
जो पुरुष ने सदा ही दिया है स्त्री को
कुछ भी तो नहीं बदला आज तक
स्त्री तो स्त्री ही रही
इस सतयुग से कलयुग तक की यात्रा में!
.
( राजेश्वर वशिष्ठ )

याद रखना एक बात-निलाक्ष मिश्रा “अस्तित्व”

ठहरोगे
तो कुचल दिया जाएगा
तुम्हारी चेतना को..
.
दौड़ोगे तो
काट दिया जाएगा
तुम्हारी टांगों को..
.
तुम्हारी हँसी को
बेशर्म हँसी कहा जाएगा..
.
पर याद रखना एक बात
किसी के
एहसानों तले नहाने से बेहतर होगा
अपने रक्त से नहा लेना…
ऐसा करने से बच जाओगे
अपने मूँह पर थूके जाने से..
.
( निलाक्ष मिश्रा “अस्तित्व” )

॥ जानकी के लिए ॥-राजेश्वर वशिष्ठ

मर चुका है रावण का शरीर
स्तब्ध है सारी लंका
सुनसान है किले का परकोटा
कहीं कोई उत्साह नहीं
किसी घर में नहीं जल रहा है दिया
विभीषण के घर को छोड़ कर।
.
सागर के किनारे बैठे हैं विजयी राम
विभीषण को लंका का राज्य सौंपते हुए
ताकि सुबह हो सके उनका राज्याभिषेक
बार बार लक्ष्मण से पूछते हैं
अपने सहयोगियों की कुशल क्षेम
चरणों के निकट बैठे हैं हनुमान!
.
मन में क्षुब्ध हैं लक्ष्मण
कि राम क्यों नहीं लेने जाते हैं सीता को
अशोक वाटिका से
पर कुछ कह नहीं पाते हैं।
.
धीरे धीरे सिमट जाते हैं सभी काम
हो जाता है विभीषण का राज्याभिषेक
किंतु राम प्रवेश नहीं करते लंका में
बाहर ही ठहरते हैं एक ऊँचे टीले पर।
.
भेजते हैं हनुमान को अशोक-वाटिका
यह समाचार देने के लिए
कि मारा गया है रावण
और अब लंकाधिपति हैं विभीषण।
.
सीता सुनती हैं इस समाचार को
और रहती हैं खामोश
कुछ नहीं कहती
बस निहारती है रास्ता
रावण का वध करते ही
वनवासी राम बन गए हैं सम्राट?
.
लंका तक पहुँच कर भी भेजते हैं अपना दूत
नहीं जानना चाहते एक वर्ष कहाँ रही सीता
कैसे रही सीता?
नयनों से बहती है अश्रुधार
जिसे समझ नहीं पाते हनुमान
कह नहीं पाते वाल्मीकि।
.
राम अगर आते तो मैं उन्हें मिलवाती
इन परिचारिकाओं से
जिन्होंने मुझे भयभीत करते हुए भी
स्त्री की पूर्ण गरिमा प्रदान की
वे रावण की अनुचरी तो थीं
पर मेरे लिए माताओं के समान थीं।
.
राम अगर आते तो मैं उन्हें मिलवाती
इन अशोक वृक्षों से
इन माधवी लताओं से
जिन्होंने मेरे आँसुओं को
ओस के कणों की तरह सहेजा अपने शरीर पर
पर राम तो अब राजा हैं
वह कैसे आते सीता को लेने?
.
विभीषण करवाते हैं सीता का शृंगार
और पालकी में बिठा कर पहुँचाते है राम के भवन पर
पालकी में बैठे हुए सीता सोचती है
जनक ने भी तो उसे विदा किया था इसी तरह!
.
वहीं रोक दो पालकी,
गूँजता है राम का स्वर
सीता को पैदल चल कर आने दो मेरे समीप!
ज़मीन पर चलते हुए काँपती है भूमिसुता
क्या देखना चाहते हैं
मर्यादा पुरुषोत्तम, कारावास में रह कर
चलना भी भूल जाती हैं स्त्रियाँ?
.
अपमान और उपेक्षा के बोझ से दबी सीता
भूल जाती है पति मिलन का उत्साह
खड़ी हो जाती है किसी युद्ध-बंदिनी की तरह!
कुठाराघात करते हैं राम —- सीते, कौन होगा वह पुरुष
जो वर्ष भर पर-पुरुष के घर में रही स्त्री को
करेगा स्वीकार ?
मैं तुम्हें मुक्त करता हूँ, तुम चाहे जहाँ जा सकती हो।
.
उसने तुम्हें अंक में भर कर उठाया
और मृत्यु पर्यंत तुम्हें देख कर जीता रहा
मेरा दायित्व था तुम्हें मुक्त कराना
पर अब नहीं स्वीकार कर सकता तुम्हें पत्नी की तरह!
.
वाल्मीकि के नायक तो राम थे
वे क्यों लिखते सीता का रुदन
और उसकी मनोदशा?
उन क्षणों में क्या नहीं सोचा होगा सीता ने
कि क्या यह वही पुरुष है
जिसका किया था मैंने स्वयंवर में वरण
क्या यह वही पुरुष है जिसके प्रेम में
मैं छोड़ आई थी अयोध्या का महल
और भटकी थी वन, वन!
.
हाँ, रावण ने उठाया था मुझे गोद में
हाँ, रावण ने किया था मुझसे प्रणय निवेदन
वह राजा था चाहता तो बलात ले जाता अपने रनिवास में
पर रावण पुरुष था,
उसने मेरे स्त्रीत्व का अपमान कभी नहीं किया
भले ही वह मर्यादा पुरुषोत्तम न कहलाए इतिहास में!
.
यह सब कहला नहीं सकते थे वाल्मीकि
क्योंकि उन्हें तो रामकथा ही कहनी थी!
.
आगे की कथा आप जानते हैं
सीता ने अग्नि-परीक्षा दी
कवि को कथा समेटने की जल्दी थी
राम, सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौट आए
नगर वासियों ने दीपावली मनाई
जिसमें शहर के धोबी शामिल नहीं हुए।
.
आज इस दशहरे की रात
मैं उदास हूँ उस रावण के लिए
जिसकी मर्यादा
किसी मर्यादा पुरुषोत्तम से कम नहीं थी।
.
मैं उदास हूँ कवि वाल्मीकि के लिए
जो राम के समक्ष सीता के भाव लिख न सके।
आज इस दशहरे की रात
मैं उदास हूँ स्त्री अस्मिता के लिए
उसकी शाश्वत प्रतीक जानकी के लिए!
.
( राजेश्वर वशिष्ठ )

ઘણી ખમ્મા!-હર્ષા દવે

શિખર ઉપર દીવો પ્રગટાવનારાને ઘણી ખમ્મા!
તળેટીનો ખૂણો અજવાળનારાને ઘણી ખમ્મા!
.
હલેસા મારવાનાં જોમથી વાકેફ થવાયું છે,
મને મઝધાર માં છોડી જનારાને ઘણી ખમ્મા!
.
પગરખાં પહેરવા મળતા નથી – સંજોગવશ જેને,
બધાં એ સ્થિર ડગલાં માંડનારાને ઘણી ખમ્મા!
.
છતાં કઠપૂતળીને લાગતું કે મુક્ત છે પોતે,
ચીવટથી એમ દોરી બાંધનારાને ઘણી ખમ્મા!
.
હતો વાકેફ તો મારી થનારી હારથી એ પણ,
અહો! છેવટ સુધી પડકારનારાને ઘણી ખમ્મા!
.
( હર્ષા દવે )

आषाढस्य प्रथम दिवसे-લાલજી કાનપરિયા

વરસે કોના સ્મરણોનો વરસાદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे?
જળથી લથબથ કોણ પાડતું સાદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे?

.

મોરપીંછના રંગો પહેરી બાળાવેશે કોણ આંગણે આવે પાછું?
ભીના ભીના ટહુકાની છાબ ભરીને કોણ આંગણે લાવે પાછું?
મનને ચડતો હરિયાળો ઉન્માદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे..
વરસે કોના સ્મરણોનો વરસાદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे?

.

હસ્તરેખાઓ બધીય જળના રેલા થઈને વહી જાય અચાનક આજે
મેઘધનું શી રંગીન વાતો પવન કાનમાં કહી જાય અચાનક આજે..
લોહી સોંસરો ઉઠે છે એક નાદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे?
વરસે કોના સ્મરણોનો વરસાદ રે આ आषाढस्य प्रथम दिवसे?

.

( લાલજી કાનપરિયા )